आप भी इस शादी में जरुर आईये – विनोद बच्चन

meri shadi mai jaroor aaiye

meri shadi mai jaroor aaiyeतनु वेड्स मनू फिल्म के जरिये सफलता के रथ पर सवार निर्माता विनोद बच्चन की अगली फिल्म शादी में जरुर आना १० नवंबर को प्रर्दशित होने जारही है। इस फिल्म में राजकुमार राव के साथ क्रिती खरबंदा लीड रोल में नजर आएंगी। फिल्म की शूटिंग इलाहाबाद और भारत के अन्य शहरों में की गई है। फिल्म को निर्देशित किया है रत्ना सिन्हा ने। पेश हैे विनोद बच्चन से हुयी बातचीत के मुख्य अंश-

प्रश्न :- विनोद जी कैसे लग रहा है आपको जब ये फिल्म शादी में जरुर आना रिलिज होने जारही है?
उत्तर – बहुत एक्साईटेड हुं। शादी सबसे इंट्रेस्टिंग पार्ट है फिल्म का। अगर फिल्म का टाईटल आपको हंसा दे तो समझ लिजिये कि फिल्म सुपरहीट है। मैं जिसको भी टाईटल सुनाता हूं वो जरुर कहता है दुसरी शादी कर रहे हो क्या। मैं हसने लगता हूं फिर मैं कहता हूं नहीं भाई ये मेरी फिल्म का नाम है और दस नवंबर को सबको आना है। शादी में जरुर आना बहुत ही अच्छी स्क्रीप्ट है जिसे कमल पांडे जी ने लिखा है। रतना जी ने इसे काफी खुबसुरती से निर्देशित किया है।

प्रश्न :- एक मेगा हिट के बाद दर्शको की अपेक्षा बढ़ जाती है। उस अपेक्षा को किस तरह पूरा करेंगे आप?
उत्तर – हां आपकी इस बात से सहमत हूँ तनुवेड्स मनु मेगा हिट फिल्म रही है। दर्शको ने उस फिल्म को काफी सराहा है इसिलिये हमारे सामने बड़ी चुनौती है। हमारी निर्देशक रत्नाजी के साथ हमने इस चुनौती को एक मिशन का रूप दिया है। इस फिल्म दर्शको के मूड को ध्यान में रखकर बनाया है। हर छोटी छोटी बातों पर बारीकी से ध्यान दिया है क्योंकि दर्शको को समझना जरूरी है। अब यह फिल्म १० नवंबर को प्रर्दशित होने जारही है।

प्रश्न :- कहानी का चयन करना कितना मुश्किल था?
उत्तर – बहुत ही मुश्किल था। एक प्रोड्युसर की तरफ से मैं कहुंगा कि ये सबसे बड़ा काम होता है जिसमें मुझे लगता है कि मैं कामयाब रहा हूं। दुसरा होता है निर्देशक जिसका चयन कर पाना काफी मुश्किल होता है। जिसमे भीं मैं कामयाब हु्आ हूं। मेरा जो विजन था रत्ना जी के लिये वो काफी साफ सुथरा था। मुझे लगता था कि उनमें फिल्म बनाने की बहुत बड़ी भूख है। और मैं जब ये फिल्म बनाउंगा तो रत्ना जी इसके लिये काफी मेहनत करेंगी और वही हुआ। वो आने वाले दिनों की एक बहुत बड़ी निर्देशक बनने वाली हैं।

प्रश्न :- आपकी फिल्म की जोड़ी काफी फ्रेश लग रही है। राजकुमार राव भी और क्रिति खरबंदा भी। दोनो पहली बार एक साथ आये ये कैसे संभव हुआ?
उत्तर – आपको बतादें कि ये कहानी मेरे पास आने से पहले राजकुमार राव जी को सुनायी गयी थी। उन्हे फिल्म काफी पसंद आयी थी वे काफी उत्साहित थे। मुझे जब बताया गया कि इस कहानी को लेकर राजकुमार राव जी ने हा कह दिया तो मेरे लिये ये निर्णय करना काफी मुश्किल था। मैंने जैसे ही कहानी सुनी तुरंत कह दिया कि हां इस फिल्म के लिये राजकुमार राव जी से बेहतर कोई नहीं हो सकता। जिसतरह उनकी फिल्म आॅस्कर में जा रही हैं मैं उन्हे भविष्य का आमिर खान देखता हूं।

प्रश्न :- आपकी फिल्में हमेशा मनोेरंजन करती हैं तनु बेड्स मनु इसका उदाहरण है। इस फिल्म को आप किस रुप में लेते हैं?
उत्तर – यह पुरी तरह कार्मशियल मनोरंजक मसाला फिल्म है। और दुसरी फिल्मों से हमने इसका ग्रोथ उपर किया है। इस फिल्म के लिये मैने पहले तापसू पन्नू को फाईनल किया मगर उनकी फिल्म जुड़वा टू का डेट क्लेस हो गया। जिसके कारण तापसी ये फिल्म नहीं कर पायीं उसके बाद मैने और रत्ना जी ने लगभग १०० लड़कियों का आडिशन लिया और रत्ना जी ने यह तय कर लिया था कि जबतक फिल्म के आरती नहीं मिलती तबतक मैं फिल्म नहीं शुरु करुंगी और बाद में क्रिती का आडिशन लिया गया और हमने उन्हे फाईनल कर लिया।

प्रश्न :- क्या तापसी अगर इस फिल्म में होतीं तो आपके लिये बेहतर होता या अब बेहतर है।
उत्तर – मैं इस इंडस्ट्रीज में काफी दिनों से हूं। काफी नजदीक से देखा हूं। मुझे ऐसा अनुभव होता है कि आप फिल्म बना नहीं सकते हैं फिल्में बन जाती हैं। फिल्म आप पैसे से नहीं बना सकते हैं। उसे आप दिलो दीमाग से बनाते हैं। ये क्रिती का लक था कि यह फिल्म उनको मिली। आपने देखा होगा कि कई फिल्में ऐसी हैं जिसे शाहरुख खान साहब करने वाले थे मगर उसे संजय दत्त साहब ने किया।

प्रश्न :- राजकुमार राव जी की फिल्म न्यूटन के आस्कर में जाने का कितना फायदा होगा फिल्म को?
उत्तर – निसंदेह फायदा होगा। वैसे जब हमने शुटिंग खत्म किया था तब तक तो राजकुमार राव जी की फिल्म को आस्कर में भेजने की चर्चा तक नहीं थी।। वे बहुत अच्छे अभिनेता है। उनकी खूद की बड़ी फैन फॉलोइंग है । आस्कर में उनकी फिल्म जाने से उसमे बढ़ोतरी हुयी है।

प्रश्न :- सुना है आप सेट पर काफी प्रोफेशनल रहते हैं?
उत्तर – मैं काम के समय प्रोफेशनल रहता हूं। और मेरा मानना है सारे निमार्ताओं को प्रोफेशनल होना ही चाहिए। काम के समय सिर्फ काम ही होना चाहिये। इसे अनुशासन कहते हैं। जो लोग मुझे नजदीक से जानते हैं उन्हें पता है की मैं काम में कोई कोताही नहीं बरतता और ना ही लोगो से इसकी अपेक्षा होती है। मैं किसी स्टार की वैनिटी वैन में बैठकर टाईमपास नहीं करता।

प्रश्न :- शादी में जरुर आना का संगीत लोगो को काफी पसंद आरहा है?
उत्तर – बिल्कुल और लोगों ने फोेन करने अभी से कहना शुरु कर दिया है कि मुझे आपकी शादी में अब तो आना ही पड़ेगा।